नई जिंदगी

आज मुझे अरसे बाद याद आया,
याद आया कि कुछ लिखना है।
लिखना है कलम से एक दास्तान
एक दास्तान नई जिंदगी की।
जिंदगी की, अदब से जो चलती रही,
चलती रही, मुझसे आकर मिली।
आकर मिली, जीना सिखला गई,
सिखला गई, जीतना हार के।
हार के जो देखा, तो खुशी मिली,
खुशी मिली, दिल ये जीत गया।
जीत गया तेरे संसार को,
संसार को और तेरे प्यार को।
प्यार को तेरे गर मैं ना समझूँ,
ना समझूँ, चलना कैसे संसार में।
संसार में जो मैं चलने लगी,
चलने लगी, मिली नई जिंदगी आज मुझे।

-आरती मानेकर

Advertisements

41 thoughts on “नई जिंदगी

  1. वाह क्या बात है आरती 👌
    मुझे सिंहावलोकन छंद बहुत पसंद है, आपने बड़ी ही खूबसूरती से इस छंद का प्रयोग किया, इस बात के लिए बहुत बहुत बधाई ।
    यूँ ही लिखते रहें, और हमें प्रेरित करते रहें ☺

    Liked by 1 person

  2. New life
    Today I remembered after a long time,
    Write something that is remembered.
    Pen to write a story
    A story of new life.
    Of life, which continued to respect,
    Continued, had to come to me.
    Had come, and taught to live.
    Taught to win by losing.
    Which saw the defeat, the joy,
    Joy, heart they won.
    Won your world,
    And your love to the world.
    I love thee not interpret poverty,
    Interpret it, how to walk in the world.
    In a world which I started,
    Became, today I got a new life.

    -Arti Maneker

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s