मीठी पड़ोसन

एक तो मेरे घर पर
एक किराने की दुकान,
उस पर मेरी मीठी पड़ोसन
हाय! मुझपर वो मेहरबान।

हुई भोर और आयी वो
मेरी छोटी-सी दुकान पर,
मैं तो मलंग हो जाता हूँ
उसकी मधुर मुस्कान पर।

तेल, मसाले, चीनी, गुड़,
दाल, चावल
एक लंबी-सी फेहरिस्त है;
“भिजवा देना सामान घर पर”
कहती मेरी पड़ोसन
हाय!उसकी बोली बड़ी मस्त है!

दोपहर तक जो सामान न भेजूँ
तो उसका संदेशा आता है,
“भिजवा दो न जल्दी”
उसका लिखा हुआ मुझे भाता है।

बर्फी, गुजिया, मालपुवे,
खीर, हलवा, लड्डू, घेवर,
शाम को आयी मीठी खुशबू
फिर मेरी दुकान पर।

अब लगता है वो आएंगी
लेकर पैसे और पकवान,
मेरी बस एक इतनी अर्जी
मान ले ओ मेरे भगवान।

आठ बज गए, न आयी वो
न ही लाती पैसे,
इतने सारे सामान का मैं
अब दाम निकालूँ कैसे?

दिल तोड़कर मेरा वो
रोज खाती मीठे पकवान,
इधर उधारी के बोझ से
टूट रही मेरी दुकान।

फिर न आयी वो दुकान पर
हुआ प्यार का मेरे देहावसान,
अरी! प्यार न दे, पैसे तो दे
इतना कर दे तू मुझपर अहसान।

आरती मानेकर

At a special demand, I tried my hand in comedy for the very first time…
Hope you guys will like it…
Comment must and let me know “should I write comedy too? “
Thanks. 😊

Advertisements

58 thoughts on “मीठी पड़ोसन

  1. आपकी हिंदी इस बेटर than इंग्लिश . धिस इस थे रीज़ोन यू गेटिंग मोरे कामेंट्स आन धिस पोस्ट ।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s