Happy New Year

Happy New Year…

​A very very happy new year to all of you.

On this new year, I’m here with 4 poems, which have been written by me on last 4 New Years ..

So here I go…!


आह्वान (New year 2017)


जब मन में तेरे द्वंद्व चले

संसार दण्ड – सा जान पडे़

आत्म को संभाल कर,

ईश का आशीष ले।

चिंताओं से मुक्त हो,

संज्ञाओं से विरक्त हो,

मस्तिष्क तेरा रिक्त हो,

हो क्रांति को तैयार तू!

सुन जीवन की पुकार तू।
छल के अरण्य में

बनावट के भ्रम में

टूटकर बिखर रही

रोती हुई मानवता,

है तुझको पुकारती

पुकारती मां भारती

और प्रक्रृति पुकारती

हमको तू संवार दे!

हे मित्र! स्वत्व वार दे।
पाप होता देखकर

तू मौन अपना त्यजना,

किन्तु अपनों की भुल पर

शांत चित्त रखना।

बन ना हलाहल विष तू,

असहाय का प्रतिकष तू,

कर क्षमा इस वर्ष तू,

तू क्रोध – रग काट दे!

मुक्ता – सी हंसी बांट दे।
‘खुशी’ को लक्ष्य ठानकर

कर परिश्रम अथक,

एक कर दे अहिर्निश

और अस्तित्व तेरा सार्थक।

प्रतिक्षा करे जीत तेरी,

दे परीक्षा प्रीत तेरी,

चलती रहे ये रीत तेरी,

शुभ का शंखनाद कर!

तू द्वंद्व निर्विवाद कर।

-आरती मानेकर

बदलाव (New year 2016)


बदल रहे हैं साल लगातार

फिर क्यों बदलती नहीं

ये सोच! इंसान तेरी?

वही कुंठित संकुचित – सी सोच

रोक लेती है तुझे और

रोकती है तेरे देश को

प्रगति पथ पर चलने से।
सीमाएं तू तोड़ रहा नित

नए ज्ञान की, फिर क्यों

तेरी बेटी रही शिक्षा से वंचित?

लक्ष दान तू अचल मूरत पर

क्यों कर?

साकार ब्रम्ह (असहाय) के हित

से जो अंजान है!

सुथरा बदन और चमकते वस्त्र

ये तेरी पसंद!

फिर क्यों शहर की सड़कों पर

स्वच्छता जरूरी नहीं?
बदल रहा समय और परिवर्तन नियम!

किन्तु विडंबना यह कि

बदली तेरी फितरत है।

शालीन और सभ्य तू

दुनिया के लिए, वहीं

औपचारिकता ने बदल दिए

तेरे रिश्तों के मायने।

क्यों हर दिन तू मिलता

गैरों की भीड़ से?

तेरे अपने बेकल हैं

मिलने को तुझसे!

-आरती मानेकर

कर्मयुग (New year 2015)


सच है निशिथ के साये में

भय तो किसी को लगता है।

कोई राहगीर निडर होगा

तारों को देख वो चलता है।

विश्वास उसे निज-पग में

आगे बढ़ता; चलता जाता है।

पाकर मंजिल अभिप्सित, हर्षित

ना समझो भाग्य का नाता है!

ये फल है अथक प्रयासों का

ऐसे जीवन बदला जाता है।
रावण पर राम, कृष्ण की कंस पर

यह सत्य विजय की गाथा है।

चमके जो रवि के तेज से तेज

हे भारत! वो तेरा माथा है।
कर्म-प्रेम कुंजी है आनंद की,

करो! हमें कर्मवीर कहलाना है।

स्वर्ग-सुख की व्यर्थ कामना,

धरती को धरती-सा बनाना है।

चमकेंगे स्वर्ण-सा अग्नि में तपकर

कलियुग को कर्मयुग में बदलना है!
-आरती मानेकर

नव वर्ष का नव विधान (New year 2014)

नव वर्ष का नव विधान
लहलहा रही है खेत में धान।

इस वर्ष की शुरुआत आंसुओं ने की है।
ये आँसू गम के नहीं,
खुशियों का खजाना हैं।
चल रहे हैं जिंदगी के सफर में
चलते हुए मंजिल तक जाना है।

बीता साल न जाने कैसे बीत गया!
कुछ पाया इस वर्ष में,
तो कुछ हमने खो दिया।
जीत ली हमने कोई बाजी,
तो कोई यहां हमसे जीत गया।

नए आज का मौसम है रंगमान,
ज्यों उदय हुआ इंदिरा का।
क्यों कल बिलख कर रोई थी शाम?
उसे दुख था विरह का!
शायद इसलिए चुपचाप पी गई थी जाम।

गीत बीते साल के बहुत याद आएंगे।
राग नियति और सुर जीवन का था।
अब नए चेहरों से रिश्ता हम निभाएंगे।
भूला कर गम जो मन में था,
नव वर्ष के हर दिन का जश्न हम मनाएंगे।

-आरती मानेकर

50 thoughts on “Happy New Year

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s