Lori…..

काहे मेरी बिटिया को नींदिया न आये…
रात सारी बीत जाये, नींदिया न आये…
काहे मेरी गुड़िया को नींदिया न आये…!

खुद भी न सोये वो, मुझे भी जगाये…
खेल सारी रात खेले, मुझको सताये…
मीठी-सी उसकी हँसी, मन को भाये…
काहे मेरी बिटिया को नींदिया न आये…!

आज हरी बगिया में उसको ले जाऊ..
बेला के झूले में उसको झूलाऊ…
काश ये हरियाली उसको सुलाये…
आज मेरी गुड़िया को नींदिया न आये..!

नन्हीं-सी उसकी आँखें, देखे बड़े प्यार से…
“ले ले मुझे गोद में माँ”, बोले बड़े लाड़ से…
आज मेरे आँचल में उसको छुपाऊँगी…
तब जाके बिटिया को नींद आ जायेगी..!

चाँद-तारें रात सारी उसको सुलायें…
फिर पुरवा उसे नींद से जगाये…!

-आरती मानेकर

Advertisements

12 thoughts on “Lori…..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s