मेरे लेखक से

अच्छा तो लेखक बन ही गए तुम!

किंतु क्या अब भी मेरे प्रेमी हो तुम?

बुरा न मानो, किंतु संदेह है,

क्योंकि अब मेरे लिए नहीं लिखते ना तुम!
याद करो, अंतिम खत में 

तुमने कहा था, “परेशान न करना,

साल-दो साल मुझे याद न करना।

व्यस्त रहूंगा, खत न लिखना,

मिल न पाऊंगा, जिद्द न करना।”
रोई थी तब मैं खूब फफककर,

फेंका था खत तब तुकड़े कर।

ज्ञात न था, तुम किताब लिखोगे,

जी रही थी, जीवन को व्यर्थ समझकर।
दो साल बीते यूं क्षण भर में;

प्रकाश हुआ आज अंधेर-उर में।

समाचार में पढ़ा साक्षात्कार तुम्हारा,

लाई किताब उसी दिन घर में।
मैंने किताब फिर गले से लगाई,

खुशबू उसमें तुम-सी ही पाई।

चूम लिया फिर-फिर मैंने उसको,

आंखों से आंसू मैं रोक न पाई।
अनूठी कहानी, खूब गढ़े किरदार;

हां, वो प्रेम-प्रसंग पढ़ती मैं बार-बार;

प्रेमी-प्रेमिका के बहाने शायद कहीं 

लिखा हो तुमने, मेरे लिए थोड़ा-सा प्यार।
हां, एक शिकायत मुझे तुमसे रही है;

बात मेरी न तुमने कहीं भी कही है।

सजा कि खत लिखो फिर उस पते पर,

तुम्हारी प्रेमिका आज भी वहीं है।
लिखो, आज केवल मेरे लिए, ताकि 

लेखनी के शब्दों पर हो अधिकार मेरा!

लिख दो फिर वर्णन अपने मिलन का 

और कर दो ना शाश्वत प्यार हमारा।

-आरती मानेकर

Advertisements

Book Review- “Les Just Not Be Only Friendz (I)”

A Troubled Love Story in Disguise

Hi everyone,

Good evening!

I’m again with a book review here- Les Just Not Be Only Friendz (I)- a Troubled love Story in Disguise“, which is written by Vikash Sharma. 

Description:

The author dedicated the book to all his friends and to all those who truly believe in friendship. He wrote the book as first person. This is his first book. It’s a trilogy, means you are going to read three stories in a book-  super cool friendship,  up and downs of career and a Troubled love Story.

About the author: . Vikash Sharma was born in Haryana in 1987. He has travelled various states of India, to explore the lives of people, places, languages, cultural differences, festivals, religions and the rest.

He currently lives in Mumbai.

He is a freelance writer, photographer, traveller, producer and a filmmaker.

He believes in wandering, seeking happiness in small things and sharing it with people.

‘Les just not be only friendz(I)’ is his first novel. He is currently working on the second part of the trilogy of ‘Les just not be only Friendz’.


My view on the book: *Les Just Not Be Only Friendz (I)*, is a troubled love story, dedicated to the believer of friendship and the friends of the author. It is a trilogy novel.

So there are 6 elements of a Nobel. Let’s see how the novel goes with elements.
*1) Goal* : As it is a love story, and I think love stories don’t have any goal, but to please and entertain the readers. And the book entertained me!
*2) Plot* : The novel is of autobiographical genre. It is less a love Story, but more a troubled life story of a bachelor/student.
*3) Characters* : There are enough characters in the story. Readers want ideal characters, oh yes, Aakash, the leading character is an ideal lover boy, like he could do anything for his love, and Dheeru, friend of Aakash, not an ideal as a person, but an ideal friend. He drinks, he abuses all the time, but he cares for his friend in trouble. Here I must admit, a  person nowadays is not a person he actually is, but a person who, the world made  it. Rest the characters player their roles, as they should have played.
*4) Conversation* : Not so lengthy, not so short.

*5) Language* : Easy to understand. Many curse words have been used in the conversation, but that was the need of the story. As per the background, language suits the story. Many will dislike the novel just coj the language, but what’s wrong there in writing the truth!

*6) Background* : Delhi, NCR region is in background.

The story took more time than usual to lost me in it. Starting of the story is kinda boring. Yes, I came to know about a new field, film school life and I enjoyed it. A description of *Vaishnodevi Trip* is there in the story, which travellers can relate with their Vaishnodevi trip. 

As it is a trilogy novel, means there are three stories: friendship, career and love story. At some last chapters, I liked when the lover boy revealed all the secrets about him to his girl.      At the very last chapter, I found it an incomplete novel and that’s why the author is writing the second part of it.
Star Rating: It’s difficult to rate it, untill I read the next part.
You can find the book here Les Just Not Be Only Friendz (I) .
Thank you for reading.

Stay tuned…

-Arti Manekar

मां! मैं भी तुझ जैसी होने लगी हूं

हां अब मेरा भी एक घर है,

है मेरा भी परिवार सलोना!

भूल जाती हूं मैं तेरे घर को,

मुझे याद केवल मेरे बच्चों की रहती है।

अब मैं रोज रात को सोती हूं

आखिर में सब से,

उठ जाती हूं दिन के भोर पहर से।

सारा काम अब अकेले करती हूं,

राशन की चिंता खत्म होने से पहले ही करती हूं।

बासा खाना छुपाने का हूनर मुझे भी आता है,

घी की रोटियां सबको खिलाने में अब आनंद आता है।

हां, मना कर देता है जब कोई खाने से

तो मन मेरा भी थोड़ा रोता है।

अब मैं भी सबसे आखिर में खाना खाती हूं,

आ जाए इतने में गर कोई,

तो बीच में ही उठ जाती हूं।

परिक्षाएं होती हैं जब बच्चों की

मैं भी रात भर जागती हूं,

कई बार लेखनी भूल जाते हैं वो,

उनके पीछे तब आध-रास्ते तक भागती हूं।

दोस्तों के सामने भी बच्चों को डांटने लग जाती हूं मैं,

अपनी पाक-कला से उनकी पसंदीदा भी बन जाती हूं मैं।

अब नहीं लेती मैं, दिवाली में खुद के लिए साड़ियां,

बिटिया बड़ी हो रही है, करती हूं अब उसके शादी की तैयारियां।

बेटा जब कभी देर तक घर नहीं आता है,

हां, मेरा मन भी शंकाओं से घिर जाता है।

बच्चे अब मुझसे बातें भी छुपाने लगे हैं,

तब अकेले में रो लेती हूं मैं।

हां, अपनी खुशियां सबसे पहले मुझसे बांटते हैं,

इतने में दिल खोलकर खुश हो लेती हूं मैं।

मैं भी अब अपने बच्चों में खोने लगी हूं।

हां, मां! मैं भी तुझ जैसी होने लगी हूं…!

-आरती मानेकर

Happy mother’s day to all amazing mothers there.

Book Review- “Teenage Diaries”

The days that were….

Hi everyone,

I just finished reading the book – “Teenage Diaries- the days that were”, which is written by Saurabh Sharma. So let’s see what I experienced while reading the book and why you should read it….

Description:

The author dedicated the book to the rocking teenage life. He wrote the book as first person. This is his first book. Ghanshyam is leading character of the story. The cool book cover tells almost everything about the book. There is a poem written by the author himself, will tell you the best about the book- 

You had a fit of breathlessness in front of your crush,
When FLAMES said marriage, you couldn’t help but blush. 
Blank calls played Morse codes,
Two meant- you missed her loads.
You were clumsy as shit, because her presence was sublime,
But after your break-up, crying became your favorite pastime.
You bunked the classes and said- ‘Let the studies rot!’
Buy you never missed Kiran ma’am’s class, ‘coj she was pretty hot! 😉
Cricket brought you glory, and planting a bomb in school changed your story.
Life screwed you over and killed your spirit, 
But you’re glad that you anyway did it.

About the author: . Being born in a middle class family has its own perks and limitations. The biggest perk is that one will be able to complete his engineering and MBA and the biggest limitation is that one will have to complete his engineering and MBA. Saurabh Sharma, being a middle class boy from Baroda, did his engineering from NIT, Allahabad and MBA from NMIMS, Mumbai. Currently an Associate Director at Flipkart, in his free time, he loves to write, play tennis and strum guitar. His debut novel is a tribute to the truly amazing friendships that he has developed over the years. His penchant for storytelling had led to his witty writing style, which has got rave reviews from across. He is currently staying in Bangalore with his wife. He is currently giving finishing touches to his 2nd novel, which will be a sequel to Teenage Diaries.

You can reach out to him on Facebook, via mail at storytellersaurabh@gmail.com or via Twitter @Storybazsaurabh .


My view on the book: As soon as I got the book, I was eager to read it and as soon as I finished it, I was amazed, how could the author wrote this, as he’s not a teenager. He wrote every possible point of Teenager’s life. Language of the story is too friendly (as used by teenagers nowadays) and interesting, which will never let you get bore. Story has a very cute starting, goes interesting with chapters, sensitive at many points, a happy yet teary ending. As the book name, the story roam around the teenage life. Ghanshyam goes to school, having feared of getting teased by classmate on his weird name (not so weird though), gets a best friend, falls in love with the most beautiful girl of the class, gets heartbreak, top the boards, changing attitude, changing life. This can be a story of anyone. I myself could relate every part of the story with my school life. As I went through many same situations, described in the book, I got the better ways to handle them.

There are many poems has been written in the book, will simply make you smile. There is a description of an accident, which later became death of Ghanshyam’s friend, was really a heart shivering scene. That made me cry. And I can bet, you’ll cry at least once while reading the book. The book is a solution to every problem of a teenager.

The book gave me laughter  as well tears, extreme hate as well unconventional love, letted me think, letted me live that life again.

I wished the story would not end.

Star Rating:  An unforgettable story of an unforgettable life….!!! Then why shouldn’t I give it 5/5 stars… *****

Conclusion: A worth reading book for any age…You must read the book. This is all I can say about the book.

You can find the book here Teenage Diaries .
Thank you for reading.

Stay tuned…

-Arti Manekar

धर्म-भक्ति-आडंबर-अंधविश्वास

नमस्कार!

इस विषय पर लिखने की काफी दिनों से इच्छा थी, आज अवसर मिला तो लिख लिया।
 जैन धर्म में जन्म लेने के कारण मैं भी जैन हूं, किंतु व्यक्तिगत तौर पर आप मुझे नास्तिक पाएंगे। हां, यह बातें मेरे लिए कदापि मायने नहीं रखती, कि कौन-किस धर्म का है, किंतु इस लेख के संबंध में इस बात का उल्लेख मुझे आवश्यक जान पड़ा। जैन धर्म में कई कड़े नियम है, जैसे नियमित रूप से देव-दर्शन, संध्या से पहले भोजन, आदि-आदि। धर्म एक ऐसा विषय है, जिसे लेकर मेरी मां और मुझमें अक्सर विवाद होते हैं। वो मुझे मंदिर जाने को कहती है, कि लोग क्या कहेंगे? और मैं मंदिर जाती नहीं, क्योंकि लोगों ने कहां किसी को छोड़ा हैं।
आज सुबह का वाकया है। मेरी मां ने टेलीविजन चालु किया और जैन मुनि के प्रवचन सुनने लगी। कुछ शब्द मेरे कानों में भी पड़े, बात रुचिकर लगी, तो मैं भी सुनने लगी। मुनि श्री कहने लगे कि “अगर आप अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देना चाहते हैं, तो बच्चे के मां के गर्भ में आते ही स्वयं अच्छी आदतें अपनाना आरंभ करें। संध्या से पहले भोजन करें, रोज मंदिर जाएं, ताकि बच्चा भी बड़ा होकर ऐसा करे। अगर आप पिता है, मदिरापान करते है या चटपटा खाते है, तो अपने लिए ना सही, किंतु अपनी होने वाली संतान के लिए इन आदतों को छोड़ दें। लोग आपसे पूछेंगे- क्या बात है, आज-कल बड़े धर्मात्मा बने फिरते हो, क्या किसी साधु के प्रभाव में हो? आप हंस के उन्हें उत्तर देना- नहीं-नहीं! साधु तो क्या, मुझे तो भगवान भी स्वयं अपने प्रभाव में नहीं ला सकते, ये तो मेरे होने वाली संतान का प्रभाव है, जिसने मुझे बदल दिया।” बात मुझे अच्छी लगी। मैंने मां को चुटकी लेते हुए कहा कि बंद करो टेलीविजन, क्योंकि यहां सुनी किसी भी बात को आप जीवन में नहीं लाएगी। आपने अगर गर्भ में मेरे रहते यह सब किया होता, तो मैं आज कुछ और होती। बस फिर मां-बेटी की तू-तू-मैं-मैं शुरू हो गई। इसी तरह एक दिन मां ने गलती से श्वेतांबर (जैन धर्म में एक पंथ) मुनि के प्रवचन टेलीविजन पर लगा दिये और कुछ समय बाद स्वयं ही चैनल बदलने लगी कि यह तो श्वेतांबर मुनि के प्रवचन हैं। यह सुनते ही मैं अवाक रह गई कि क्या यही भक्ति है, क्या यही धर्म है! एक भक्त के लिए भगवान के सभी रूप एक जैसे होने चाहिए। क्या फर्क पड़ता है कि प्रवचन किस मुनि के हैं, हैं तो प्रवचन ही। किसी कवि ने कहा भी है कि सोना अगर गलत स्थान पर भी पड़ा है, तो हम उसे त्यागते तो नहीं (केवल उपमा)।

किसी घर में एक जगह दीया जलता है और दूसरी ओर उसी घर में वाद-विवाद, कलह होती है। घर का एक सदस्य मंदिर जाता है, दूसरा शराब के नशे में धुत कहीं पड़ा रहता है। घर में अंधेरा रखकर कोई मस्जिद में दीया नहीं जलाता! वो दीया भी किस काम का, जो हमारे अंदर के अज्ञानता के अंधकार को ना मिटा सके!

 वाट्सअप तो सभी इस्तेमाल करते हैं। ऐसे ही मेरे एक समूह में फलां व्यक्ति ने एक वीडियो डाला। वीडियो में दिखाया गया था कि एक औरत, एक बाबा के पास अपनी समस्या लेकर जाती है कि मेरा पति खूब पैसा उड़ाता है, आदि-आदि।  बाबा ने कहा कि बेटी, तुम्हारे पति को बुरी हवा लग गई है। औरत ने उपाय पूछा तो बाबा ने कहा कि हिंदू धर्म के अनुसार संसार में ३३ कोटि देवी-देवता हैं, तुम मुझे सबके नाम से बस १-१ रुपया दान देना, मैं तुम्हारा काम कर दूंगा। वह औरत चतुर थी, तपाक से बोली- आप मुझे एक-एक कर सबके नाम बताएं, मैं रुपये देती हूं। वीडियो देखकर मेरी हंसी छूट पड़ी और चुंकि मैं उस वीडियो भेजने वाले को व्यक्तिगत रूप से जानती थी, तो मेरी भड़काऊ प्रवृत्ति के अनुसार मैंने कहा कि यही अंधविश्वास है, जो तुम में भी है। वह व्यक्ति भी देवी और बाबाओं पर ऐसा ही (अंध) विश्वास रखता है, किंतु अकर्मण्य है। हो गई फिर तू-तू-मैं-मैं शुरू और उसने समूह छोड़ दिया। कितनी बुरी तरह हावी है न अंधविश्वास हमारे मस्तिष्क पर!

 उपवास! धर्म-भक्ति का एक अभिन्न अंग माना जाता है, किंतु शायद लोग इसके मायने नहीं समझ पाएं हैं। मैंने कई लोगों को कहते सुना और देखा भी है कि आज मेरा उपवास है एक समय का। सुबह साबुदाने की खिचड़ी खाई, अब शाम को भोजन करके उपवास छोड़ना है।  क्या? क्या वास्तव में यह उपवास है? उपवास तो  ‘त्याग’ होता है न? यही मैं जान पाई हूं आज तक! गांधी जी ने उपवास के बारे में कहा था कि- उपवास केवल ईश्वर भक्ति न होकर हमारी आत्मा की शुद्धि का साधन है।” कई लोग अपने आप को भगवान का परम भक्त कहने की होड़ में इस तरह के उपवास रखते हैं। सप्ताह में एक उपवास आपके शरीर को भी संतुलित रखता है और मन को संयमित! मत करो ऐसे उपवास, भगवान नहीं कहते हैं। हां, अगर मन में भाव हो, उन लोगों की तड़प जानने की, जिनको एक समय का भोजन भी नसीब नहीं होता, तो उपवास करो! अच्छा लगता है।
मैं यह नहीं कहती कि मंदिर जाना छोड़ दो, दीया लगाना छोड़ दो, प्रवचन सुनने मत जाओ या उपवास मत करो। करो! बेशक करो! क्योंकि भगवान है। हां, केवल इन बातों को दीखावा या आडंबर बनकर अपने जीवन पर हावी मत होने दो!
मैं यह जानती हूं कि उपरोक्त बातें सभी लोग जानते हैं, मैं तो बस याद दिलाना चाहती थी। यह लेख पढ़कर कई लोगों को बुरा लगा होगा। मैं माफी नहीं मांगूंगी। मेरा तो उद्देश्य ही यह था कि दिल पर बात लगे। क्योंकि जब दिल पर बात लगेगी, तभी तो बात बनेगी।

-आरती मानेकर