जन्मदिवस

जन्मदिवस पर केवल
उम्र बढ़ती है
इंसान की,
परिपक्वता नहीं आती
उस एक दिन के बाद…
इंसान होता है बड़ा,
कुछ घटनाओं के बाद!
भली-बुरी कुछ घटनाएँ,
बदल देती हैं
दृष्टिकोण!
परिस्थिति को देखने का!
और सलीका
जीवन जीने का…
बदल जाता है
इंसान तब
बहुत सारा…
और बड़ा होने लगता है-
उम्र से कम, ज़्यादा या
बराबर ही।
बड़ा होना
कोई सहज घटना नहीं है।
कई अन्य घटनाएँ
बनती हैं मददगार
इंसान के बड़े होने में…

-आरती मानेकर