फ़नकार का जवाब

मुझे मिटा दिया, ये सोचकर, तुम जी रहे होंगे बड़ी राहत में,
लेकिन फ़नकार मरते नहीं फ़ना हो जाते हैं, फ़न की चाहत में!
तुम मुझे मार सकते हो, लेकिन मेरे जज़्बात का क्या?
मेरी कलम तोड़ दो, लेकिन उसके रोशनाई से निस्बत का क्या?
कागज़ तुम जो फाड़ दो सारे, तो फ़लक ज़मीन हो मेरे लिए,
जो मैं लिख दूँ फिर कोई गज़ल, तुम इतने हैरान हो किस लिए?

मैं अभी मर नहीं सकता कि नज़्में जावेद लिखना बाक़ी हैं,
तेरी हार और मेरी फ़तह की हसीं नावेद लिखना बाक़ी है।
दहर के दिल पर इश्क़ के अल्फ़ाज़ लिखना बाक़ी हैं,
आसमां से ऊपर उठने वाली परवाज़ लिखना बाक़ी है।बदल दूँ मैं ज़माने की चाल को, ऐसे मेरे ख़यालात लिखना बाक़ी हैं,
चर्चें तुम मेरे नाम के सुनो, उस वक़्त के तुम्हारे हालात लिखना बाक़ी हैं!
नौनिहालों को सुना सकूँ, वो किस्सा लिखना बाक़ी है,
मेरे मुल्क के फ़रोग़ में मेरा हिस्सा लिखना बाक़ी है!

-आरती मानेकर

The poem may seem weird to you, as it is the sequence to my previous poem. To understand this one, you must read my previous poem. Here is the link- कलाकार से प्रतिशोध .

Thank you…

Advertisements

आधा-आधा

आधा-आधा दिन बीता है,

आधी-आधी रात है बाकी,

पहले संध्याएँ सजा करतीं थीं;

अब आधे ही मित हैं बाकी!
आधी थी, जब भूख लगी थी

आधी ही माँ ने रोटी दी थी।

स्वास्थ्य पतन भी आधा हुआ है,

आधा ही अब उदर है बाकी!
आधी बढ़ी, फिर ज्ञान-पिपासा;

मुझमें बढ़ी फिर आधी-आधी;

समय बढ़ा, गुरु दूर हुए,

रही ज्ञान की प्राप्ति बाकी!
आधी उम्र में लगन लगी है,

प्रेम की अभिव्यक्ति है बाकी।

कल्पनाएँ तो खूब हुईं हैं,

प्रिय से मिलन आधा है बाकी!
आधा ही जीवन, आधी ही मैं

राह चलना फिर भी है आधी।

प्रयास कभी रहे नहीं आधे,

मंजिल मिलना केवल है बाकी!
दो दशक बीते, अलभ्य रहा सब

आधे-आधे अवसर हैं बाकी।

किंतु स्वप्न प्राप्त करने को

अर्धशति अब भी है बाकी!
कभी शब्दों का सैलाब उमड़ा था,

रहा विचारों का कहीं युद्ध बाकी।

कोई कलम चुरा ले गया है मुझसे;

आधे ही मुझमें भी भाव हैं बाकी!
-आरती मानेकर

तुम्हारी प्रतिक्षा में!!!

अलमारी के ऊपरी खाने में रखी

वो सुनहरी जिल्द वाली

तुम्हारी और मेरी बातों की

किताब कहीं गुम हो चुकी है।

शायद दुनियादारी की अगणित किताबों के बीच

दब गई हो!

लुका – छुपी के खेल में

दरवाजे के परदे के पीछे

तुम छिपते थे।

वहां अब केवल तुम्हारा अहसास

रज बनकर बाकी है।

कमरे की दीवार पर लगी

हमारी तस्वीरों की चौखटें

कुछ टूट गईं हैं और

गिरने लगी हैं तस्वीरें

कीलों के निकल जाने से!!

आंगन में लगे उस पेड़ के झूले की

रस्सियां भी झूलस गईं हैं…

अब नहीं सहती वो भार मेरा;

जो सह लेती थीं,

तुमको और मुझको

एक समेत!!!

और मेरा बचपन

अंगड़ाइयां नहीं लेता अब

मां की गोद में!

जो तुमसे लड़ने पर

सो जाया करता था।

चीजें बदल तो गईं हैं

मित्र! तुम्हारे जाने से…

तुम्हारा शहर विस्तृत हो चला

और सिमटता गया 

मेरे गांव का दायरा

तुम्हारी प्रतिक्षा में!!!

-आरती मानेकर

निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ…

निर्माणों का पावनयुग है आया,

चाहती हूँ निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!

शस्त्र भी दे दूँ, शास्त्र भी दे दूँ,

इस पावनयुग के निर्माण में, मैं अपना ज्ञान भी दूँ।
सपनें रंगीन सारे दे दूँ,

अरमानों के पंख फैलाकर,

मैं जिस आकाश में उड़ा करती हूँ,

चाहती हूँ वो आसमान भी मैं दे दूँ।
रक्त का वो प्रत्येक क़तरा,

खून – लहू – रक्त भी दे दूँ।

श्वास; मेरे प्राण का आधार है जो,

वो श्वास अंतिम मेरी, पावनयुग में दे दूँ।
तन – मन – धन, सर्वस्व दे दूँ।

मैं अपना बलिदान भी दे दूँ।

जीवन का प्रत्येक अमूल्य क्षण,

दिन – सप्ताह – महीने -साल,

समय पूरा मैं अपना दे दूँ।

निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!

पावनयुग के इस निर्माण में,

नींव रखूं मैं अपने सपनों की।

जिंदगी के कठोर संघर्षों को ईंटें बनाकर,

इन ईंटों से मज़बूत दीवार बना दूँ।

संसार के आशीर्वाद वाली

छत भी ऊपर बना दूँ।
जब सपने होंगे मेरे पूरे,

मानो, जैसे निर्माण हुआ पूरा पावनयुग का।

अब उन रंगों से, जो मेरी जिंदगी है,

मैं पावनयुग के निर्माण का सपना रंग दूँ।
हो गया अब पूरा निर्माण पावनयुग का,

फिर भी मैं चाहती हूँ-

“निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!”

-आरती मानेकर

खेल

चलो मित्रों!

एक खेलें खेल!

ना मैं जीतूं,

ना तुम हारो,

बस दिल जीते

और हारे दिन।

हम गीतों की रेल बनाएं,

अंत अक्षर से

गीत अगला गाएं,

कुछ गीत पुराने

तुम गाना,

कुछ नए तराने

मैं सुनाऊँ।

प्रभु प्रार्थना से प्रारम्भ,

भक्ति में डूबे सब जन,

अश्रु बहेंगे;

एक गीत गुनना,

होगी हंसी – ठिठौली,

दूजे गीत के संग,

तीजे में तुम

हमें नाच दिखाना,

चौथे में थिरकेंगे

सबके कदम।

गाओ क्रमवार,

लगातार चढ़ने दो

खेल का रंग,

अंत ना करना

चाहे रात बढ़ेगी,

हम खेलें खेल

चाहे दिन हो मलंग।

यह खेल दिल मिलाएं,

नई यादें बनाएं,

कभी किसी को हंसाएं,

कभी किसी को रुलाएं।

चलो मित्रों!

एक खेलें खेल!

कोई जो एक गीत गाएं,

भूले जो वो तो,

सब संग में सुर मिलाएं,

यह दिलों से बैर मिटाएं।

-आरती मानेकर

आत्महत्या

आत्महत्या..

विकल्प है तेरे दुःखी जीवन का

या विश्वास में तेरे

प्रकल्प है यह नवजीवन का।

जो भी हो, यह मिथक है;

इसके पश्चात् सुख की खोज

वास्तविकता से पृथक् है।

आत्महत्या से विनाश ही

 प्रतिपादित होता है,

आत्महत्या करने वालों का

अस्तित्व विवादित होता है।

यह विचार तनिक सरल नहीं,

इससे बड़ा न कोई पाप है

और भयानक कोई गरल नहीं।

इस राह पर आने की

चाहे जो हो विवशता,

लौट जा जीवन को वापिस,

तज के तू परवशता।

अश्रुओं के द्वारा कह दे

जो दुःख तेरे भीतर है,

किन्तु छोड़ना नहीं संसार को,

यह जीवन अत्यंत सुंदर है।

संसार का यह एक नियम विशेष है:

करुण के अतिरिक्त भी

जीवन में नौ रस शेष हैं।
-आरती मानेकर

अधेढ़ उम्र और तुम…

वो अधेढ़ उम्र की थकान

और दुगुनी होती जिम्मेदारियाँ

बड़ा होता परिवार

और छोटा होता सदन

वो चिंताओं से घिरा मन

और बिखरता हुआ गृहस्थ जीवन

वो स्वस्थ तन और काया

और बीमार मेरा अकेलापन!

सबकी केवल एक इच्छा…

तुम मिलो, पुनः, जीवन को जीवन बना दो…

एक बार, केवल एक बार,

उर में प्रेमपूर्ण जिजीविषा जगा दो…

तुम, जीवनसंगिनी मेरी;

छोड़ो एक क्षण को संसार का ताना-बाना,

और मेरे जीवन को महका दो…

आओ, बैठे पुनः प्रेमी-युगल की तरह

उसी बाग में, उसी झूले पर…

खोल दो अपने उर को पूर्णता से

निःसंदेह, निःसंकोच बातें करो

निःशब्द न रहना, प्रेम करो…

तुम; केवल तुम…

मेरे जीवन का अंतिम कारण बन जाओ…!

-आरती मानेकर