​मौसम ये मधुमास का

सर्दियों की रातें 
अब सिंहर रही हैं।

मधुमास के दिन की

किरणें बिखर रही हैं।
देखो गया है पतझड़,

हरियाली खिल रही है।

मेरे सदन – सहन में,

तितलियां मिल रही हैं।
पतझड़ में जो गिरे वो,

पत्ते फिर खिल रहे हैं।

बिछड़े थें जो तब वो,

राही फिर मिल रहे हैं।
खेतों में देखो अब

पीली सरसो फुल रही है।

यादों में वो तो सब

भूली, बरसों भूला रही है।
मौसम ये मधुमास का

मन को अति हर्षाता है।

कुछ रंग – बिरंगे सपने 

मन में फिर जगाता है।

-आरती मानेकर

वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं!

Advertisements

Book Review – “Falling Grace” 

IT FALLS WHEN YOU LOVE,

IT FALLS WHEN YOU FORCE.

Hi everyone,

Here I’m with a book review. The book falling grace is written by author Kunwar Nitin. Without wasting words here, let’s see how the book goes.

Description:

The book is dedicated to women. The writer wrote the book as first person, so we can say he himself is the hero of the book. The female leading is playing a role of prostitute (actually playing many roles).

A single second can change our life. It depends with whom we are spending our time. They can lead us to bad or to good.

In the book, they spent a night together. There was no relation in between them. So how a night changed ons’e perception towards life, you will read it in the book.

About the author: Live his life like a live wire. 

He believes in Newton’s laws of motion.



My view on the book: Let’s start from the acknowledgement. The writer wrote all his dear and near one’s name there thanking them. This simply led my mind to think that he’s a person, who cares about all the relations. 

From the first chapter, simple starting as it should be. As soon as the book goes ahead I was falling in the words of the book. Every point of the book, the writer praises the beauty. There is a line “They are girls too”, here the line is for the prostitutes. This line simply shows the respect towards women. 

There is description of the rasleela in the book and it was something which was fascinating me. While reading that I was actually not in the real world, I was in the book, whatever was written there was actually happening!

Some rape cases are described in the book, which urge one to think about every simple relation. And make one aware of the world. Rapes not really happen because of the short wears of women, this happens because of the shrink mentality of the Rapists. 

A lil effort is described there in the book to stop or to decrease such cases. “Dogs and rapists are not allowed”, this line itself is the powerful and effective effort!
Conclusion: We need a lot change of change in ourselves and in our society. The book is not so large, but so effective! Like “GAGAR MEIN SAGAR” (Hindi proverb). This will not only entertain one, but also it will bring change in the society.
You must read the book. This is all I can say about the book.

You can find the book here.
Thank you for reading.

Stay tuned…

-Arti Manekar

कोई जिद्दत नहीं है….

​सावन का आना, यूं दिल का धड़कना,

ज़हन में लगी आग का भीर से जलना,

कोई जिद्दत नहीं है, यूं तेरा मुझसे दूर जाना…!!!

बागों में लगे वो झूले, खाली पड़ी वो डालें,

उड़ गये, पंछियों की राह देखता वो बरगद,

मुनासिब है, इस स्वपन का आना और जाना…!!!

दिल की चोट, मुस्कुराहट चेहरे पर होना,

दर्द को छुपाना, बरसात में आँसू को धोना,

कोई जिद्दत नहीं है, मेरा इस तरह होना…!!!

रास्ते पर कदमों की आहट, तेरे फिर आ जाने की चाहत,

हरी डाल से टूट कर, पत्तों का मेरे दामन में गिरना,

खलता है मुझको, तेरा दूर जाना, मिल कर बिछड़ना…!!!

सजदे में जाना, खुदा में तुझको पाना,

मन्नतों के धागे, गांठ बांध नहीं पाना,

लाजिमी है मेरी हर दुआ में तेरा होना….!!!

शीशे में खुद को देख कर तेरा अक्स ढूंढ़ना,

दिल पर हाथ रखकर, धड़कनों में तुझको सुनना,

जरूरी है इस तरह, मुझमें तेरा बाकि होना…!!!
-अभिजीत कृटन & आरती मानेकर

This poem is a collaboration done by my friend and an amazing poet Abhijeet Kritan (

https://abhijeetkritan.wordpress.com) and me. Hope you guys enjoyed it. 

तुम्हारी प्रतिक्षा में!!!

अलमारी के ऊपरी खाने में रखी

वो सुनहरी जिल्द वाली

तुम्हारी और मेरी बातों की

किताब कहीं गुम हो चुकी है।

शायद दुनियादारी की अगणित किताबों के बीच

दब गई हो!

लुका – छुपी के खेल में

दरवाजे के परदे के पीछे

तुम छिपते थे।

वहां अब केवल तुम्हारा अहसास

रज बनकर बाकी है।

कमरे की दीवार पर लगी

हमारी तस्वीरों की चौखटें

कुछ टूट गईं हैं और

गिरने लगी हैं तस्वीरें

कीलों के निकल जाने से!!

आंगन में लगे उस पेड़ के झूले की

रस्सियां भी झूलस गईं हैं…

अब नहीं सहती वो भार मेरा;

जो सह लेती थीं,

तुमको और मुझको

एक समेत!!!

और मेरा बचपन

अंगड़ाइयां नहीं लेता अब

मां की गोद में!

जो तुमसे लड़ने पर

सो जाया करता था।

चीजें बदल तो गईं हैं

मित्र! तुम्हारे जाने से…

तुम्हारा शहर विस्तृत हो चला

और सिमटता गया 

मेरे गांव का दायरा

तुम्हारी प्रतिक्षा में!!!

-आरती मानेकर