निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ…

निर्माणों का पावनयुग है आया,

चाहती हूँ निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!

शस्त्र भी दे दूँ, शास्त्र भी दे दूँ,

इस पावनयुग के निर्माण में, मैं अपना ज्ञान भी दूँ।
सपनें रंगीन सारे दे दूँ,

अरमानों के पंख फैलाकर,

मैं जिस आकाश में उड़ा करती हूँ,

चाहती हूँ वो आसमान भी मैं दे दूँ।
रक्त का वो प्रत्येक क़तरा,

खून – लहू – रक्त भी दे दूँ।

श्वास; मेरे प्राण का आधार है जो,

वो श्वास अंतिम मेरी, पावनयुग में दे दूँ।
तन – मन – धन, सर्वस्व दे दूँ।

मैं अपना बलिदान भी दे दूँ।

जीवन का प्रत्येक अमूल्य क्षण,

दिन – सप्ताह – महीने -साल,

समय पूरा मैं अपना दे दूँ।

निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!

पावनयुग के इस निर्माण में,

नींव रखूं मैं अपने सपनों की।

जिंदगी के कठोर संघर्षों को ईंटें बनाकर,

इन ईंटों से मज़बूत दीवार बना दूँ।

संसार के आशीर्वाद वाली

छत भी ऊपर बना दूँ।
जब सपने होंगे मेरे पूरे,

मानो, जैसे निर्माण हुआ पूरा पावनयुग का।

अब उन रंगों से, जो मेरी जिंदगी है,

मैं पावनयुग के निर्माण का सपना रंग दूँ।
हो गया अब पूरा निर्माण पावनयुग का,

फिर भी मैं चाहती हूँ-

“निर्माणों के पावनयुग में और भी दूँ!”

-आरती मानेकर

Advertisements

आत्महत्या

आत्महत्या..

विकल्प है तेरे दुःखी जीवन का

या विश्वास में तेरे

प्रकल्प है यह नवजीवन का।

जो भी हो, यह मिथक है;

इसके पश्चात् सुख की खोज

वास्तविकता से पृथक् है।

आत्महत्या से विनाश ही

 प्रतिपादित होता है,

आत्महत्या करने वालों का

अस्तित्व विवादित होता है।

यह विचार तनिक सरल नहीं,

इससे बड़ा न कोई पाप है

और भयानक कोई गरल नहीं।

इस राह पर आने की

चाहे जो हो विवशता,

लौट जा जीवन को वापिस,

तज के तू परवशता।

अश्रुओं के द्वारा कह दे

जो दुःख तेरे भीतर है,

किन्तु छोड़ना नहीं संसार को,

यह जीवन अत्यंत सुंदर है।

संसार का यह एक नियम विशेष है:

करुण के अतिरिक्त भी

जीवन में नौ रस शेष हैं।
-आरती मानेकर